Categories
देश

निर्भया कांड के दोषियों को जेल प्रशासन का फरमान, मिल लो जिससे मिलना हो!

नई दिल्‍ली। निर्भया के दोषियों के डेथ वारंट जारी होने के बाद तिहाड़ जेल प्रशासन एक बार फिर फांसी से पहले होने वाली सारी प्रक्रियाओं को पूरा करने में जुटा है। जेल प्रशासन ने यूपी के जेल विभाग को जल्लाद को तिहाड़ बुलाने के लिए पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि फांसी की तारीख तीन मार्च से दो दिन पहले उसे तिहाड़ भेजा जाए। जेल अधिकारियों ने दोषियों के परिजनों को भी पत्र लिखकर अंतिम मुलाकात की तारीख बताने को कहा है।

जेल अधिकारियों का कहना है कि फांसी को लेकर सारी तैयारियां की जा रही हैं। दोषियों के परिजनों को पत्र भेजकर अंतिम मुलाकात की तारीख सुनिश्चित करने को कहा गया है। सभी दोषियों से परिजनों की मुलाकात एक ही दिन होगी या फिर अलग-अलग, इस पर अधिकारी कुछ नहीं बता रहे हैं। उनका कहना है कि परिजन जिस दिन मिलना चाहेंगे, उसी दिन उनकी मुलाकात कराई जाएगी।

हालांकि अधिकारियों का कहना है कि अंतिम मुलाकात से पहले सभी आरोपी सप्ताह में दो बार अपने परिजनों से मिल सकेंगे। अंतिम मुलाकात के बाद दोषियों से सिर्फ जेल अधिकारी या फिर चिकित्सक ही मिल पाएंगे।

विपछी वकीलों को आराम की जरूरत : निर्भया की मां

निर्भया की मां ने कहा है कि विनय को नहीं, बल्कि उसकी पैरवी करने वाले वकील एपी सिंह को आराम की जरूरत है। उन्होंने आरोप लगाया कि वकील कोर्ट को गुमराह कर रहे हैं। विनय की मानसिक स्थिति पूरी तरह दुरुस्त है।

निर्भया के माता-पिता व जेल प्रशासन की ओर से दायर याचिका की सुनवाई के दौरान सोमवार को पटियाला हाउस कोर्ट में वकील एपी सिंह ने कहा था कि विनय भूख हड़ताल पर है और उसकी मानसिक दशा सही नहीं है। एपी सिंह ने कोर्ट से आग्रह किया था कि जेल प्रशासन को निर्देश देकर विनय के स्वास्थ्य की पूरी रिपोर्ट मंगाई जाए।