संविदा कर्मियों के अथक परिश्रम से 24 घंटे बाद बहाल हुई ध्वस्त विद्युत सप्लाई

278
newyearwish

श्रीनिवास सिंह मोनू
बंथरा ,लखनऊ । सोमवार शाम आए भयंकर आंधी और तूफान के साथ पानी के कारण मध्यांचल विद्युत वितरण निगम शेष 2 के खुरम पुर पावर हाउस से पोषित नारायणपुर फीडर की लाइन पर दर्जनों की संख्या में पेड़ उलट गए थे इसके अलावा नारायणपुर, अमावा ,मवई के पास कई खंभे भी आंधी और पानी की चपेट में आकर गिर गए थे तभी से पूरे फीडर की सप्लाई ठप हो गई थी।

फीडर में एक ही सरकारी लाइन मैन होने के कारण ग्रामीणों को आशंका थी कि अब शायद बिजली की सप्लाई कई दिनों तक बंद ही रहे किंतु शाम को ही आंधी पानी बंद होने के बाद संविदा कर्मी अवधेश सिंह (छोटू) की टीम द्वारा सारे फीडर में जहां जहां भी खंबे टूट गए थे इसके अलावा जहां पर भी पेड़ गिरने की वजह से विद्युत लाइन ध्वस्त हो गई थी उसकी जानकारी करते हुए मंगलवार सुबह होते ही अपने दल बल के साथ गिरे हुए पेड़ों को कटवा कर हटाने का काम शुरू कर दिया गया साथ ही नए खंभों की व्यवस्था करते हुए टूटे हुए खंभों की जगह पर लगाकर लाइन को दुरुस्त कराने का काम शाम को करीब 4:00 बजे पूरा किया गया, जिसके बाद ही विद्युत सप्लाई बिना किसी रुकावट के सुचारू रूप से चल सकी।
इसके लिए ग्रामीणों ने संविदा कर्मी छोटू का आभार भी व्यक्त किया।

बताते चलेगी नारायणपुर फीडर की विद्युत लाइन को बने हुए करीब 40 वर्ष हो चुके हैं जोकि जंगल व खेतों से निकली हुई है इसके जरिए करीब 2 दर्जन से अधिक गांवों में बिजली की आपूर्ति होती है। जिसकी सप्लाई निरंतर बढ़ती ही जा रही है। जर्जर हो चुके विद्युत खंभों व तारों के सहारे विद्युत की सप्लाई होने के चलते बरसात में अक्सर तनिक भी हवा या पानी आने पर आपूर्ति ठप हो जाती है इसके बावजूद भी विद्युत विभाग के कानो में जूं नहीं रेंगती की इस प्रकार की जर्जर हो चुकी लाइनों को दुरुस्त कराया जाए।