प्रसव के दौरान बच्चे व बाद में महिला की हुई मौत परिजनों ने लगाया डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप

327
newyearwish

लखनऊ: पहले बच्चे की खुशी सभी परिवारों को होती है इसके साथ ही दंपत्ति को तो अपार खुशी का अनुभव व एहसास होता है परंतु बंथरा के हरौनी गांव निवासी नव दंपति हिमांशु गुप्ता व उनकी पत्नी लक्ष्मी गुप्ता कि खुशी उस समय काफूर हो गई जब पहले बच्चे के होने की खुशखबर के साथ प्रसव पीड़ा होने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हरौनी में सोमवार को भर्ती कराया किंतु शाम को प्रसव के दौरान बच्चे की मौत हो गई। जिसकी खबर सुनकर महिला की भी हालत बिगड़ने लगी हालत बिगड़ते देख डॉक्टरों ने आनन फानन दूसरे अस्पताल रेफर कर दिया। बावजूद हालत न सुधरने पर दूसरे अस्पताल में महिला की भी मौत हो गई। बताते चलें कि हिमांशु व लक्ष्मी की शादी पिछले वर्ष ही धूमधाम से संपन्न हुई थी।
जच्चा बच्चा की मौत होने पर परिजनों में जबरदस्त आक्रोष भर गया और परिजन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर इकट्ठा होकर महिला डॉक्टर प्रभा सिंह डॉ प्रियंका व आशा बहू निर्मला पर घोर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे। हंगामा बढता देख डॉक्टरों ने फौरन पुलिस को सूचना दिया जिस पर थाना प्रभारी ने पहुंचकर हंगामा कर रहे परिजनों को समझा-बुझाकर शांत कराया व आवश्यक कार्रवाई का भरोसा देते हुए प्रार्थना पत्र ले लिया।

परिजनों का आरोप बेबुनियाद

वही इस मामले में मुख्य डॉक्टर अरुण सोनकर का कहना है कि परिजनों द्वारा लगाया जा रहा आरोप बेबुनियाद है प्रसूता की हालत पहले भी गंभीर थी पर्याप्त संसाधन ना होने की वजह से डॉक्टरों की टीम पहले ही उन्हें दूसरे अस्पताल में प्रसव कराने की बात कह रही थी परंतु प्रसव के लिए परिजनों द्वारा जोर देने पर ही प्रसव कराया गया जिसमें बच्चे की मौत हो गई वहीं प्रसूता की हालत को देखते हुए दूसरे अस्पताल रेफर कर दिया गया था।