संदिग्ध परिस्थितियों में फैक्ट्री के अंदर फंदे से झूलता मिला मजदूर का शव

160
newyearwish

श्रीनिवास सिंह मोनू

लखनऊ। बंथरा थाना क्षेत्र में स्थित एक फैक्ट्री के अंदर इसमें काम कर रहे मजदूर का शव फंदे से लटकते हुए मिलने के बाद ग्रामीणों ने फैक्ट्री को घेरकर जमकर हंगामा किया। परिजनो ने फैक्ट्री के अधिकारियों पर मृतक को मारकर लटकाने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज करने पर अड़े रहे। मौके पर पहुंचे एसडीएम सरोजनी नगर ने परिजनों को समझाते हुए पोस्‍टमार्टम हो जाने के बाद आरोपियों को सजा दिलाने का भरोसा दिया, जिसके बाद लोग शांत हुए।

बंथरा थाना क्षेत्र

बंथरा थाना क्षेत्र के ग्रामसभा कौड़िया स्थित लुलु मॉल फैक्ट्री में बड़े-बड़े सीमेंट के प्लंबर ढालने का काम किया जाता है जिसमें उत्तम उम्र 21 वर्ष पुत्र रामचंद्र उर्फ मुन्ना ग्राम सभा बीबीपुर थाना बंथरा निवासी अपने भाई जीतराम के साथ काफी अरसे से काम करता था। मृतक का भाई जीतराम रात में और मृतक उत्तम दिन में काम करता था। रोज की तरह मृतक उत्तम सुबह काम पर फैक्ट्री में काम पर आया था। दिन में 12:30 बजे जब लंच हुआ तो मजदूरों के साथ वह भी फैक्ट्री के बाहर लंच करने के लिए निकला लेकिन जब सारे मजदूर लंच करने के बाद काम पर लग गए तो देखा साथियों ने काफी देर तक कि अभी तक उत्तम काम पर नहीं आया जिसकी खोजबीन करने लगे।

जब मजदूरों ने जाकर देखा तो फैक्ट्री के अंदर ही सीमेंट के ढाल ले गए पीलंबरों के बीच उत्तम ने सरिया में कपड़े से अपने गले में बांधकर फांसी लगा ली और मौके पर ही मृत्यु हो गई। जिसकी सूचना मृतक के घर वालों को मजदूरों ने दी मृतकों के परिजनों को सूचना मिलने के बाद गांव के ग्रामवासी सहित क्षेत्र के लोग फैक्ट्री पर हंगामा करने लगे और आरोप लगाया कि उत्तम को हत्या करके फांसी पर लटकाया गया लेकिन फैक्ट्री के अंदर कोई भी सक्षम अधिकारी मौजूद नहीं था।

इसकी सूचना पाकर थाना प्रभारी रमेश सिंह रावत मौके पर मैय फोर्स के पहुंचे तो देखा वहां पर सैकड़ों की तादाद में लोग हंगामा कर रहे थे लोगों का हंगामा देख कर इसकी सूचना थाना प्रभारी ने एसडीएम सरोजनी नगर चंदन कुमार पटेल तथा क्षेत्राधिकारी कृष्णा नगर लाल प्रताप सिंह को दी।

सूचना पाकर मौके पर अधिकारियों ने सीआरपीएफ एवं सीआईएसएफ के जवानों के साथ फैक्ट्री पहुंचकर हंगामे को शांत कराया।थाना प्रभारी रमेश रमेश सिंह रावत ने बताया कि प्रोजेक्ट मैनेजर से मोबाइल फोन पर बात हो गई है और 500000 मुआवजा देने के लिए मृतक के परिजनों को कहा है वहीं उप जिलाधिकारी सरोजनी नगर चंदन कुमार पटेल ने मृतक के परिजनों को सरकारी आर्थिक सहायता मुहैया कराए जाने का भी भरोसा दिया जिसके बाद परिजनों का आक्रोश शांत हुआ। पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।