प्रमाण पत्र देने के साथ तीन दिवसीय खाद्य प्रसंस्करण शिविर का हुआ समापन

431
newyearwish

श्रीनिवास सिंह मोनू

लखनऊ: सरोजनी नगर विकास खंड के न्याय पंचायत ऐन के नारायणपुर में शनिवार से उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग उत्तर प्रदेश द्वारा तीन दिवसीय ग्राम स्वरोजगार जागरूकता शिविर का सोमवार को समापन हुआ।

ग्राम प्रधान सुशीला सिंह ने उपस्थित प्रशिक्षुओं में से 30 लोगों को प्रमाण पत्र देते हुए शुभ कामना के साथ शिविर का समापन किया। प्रमाण पत्र पाने वालों में से अनुष्का सिंह अंकित सिंह श्याम किशोर सिंह ठाकुर प्रसाद कृष्ण कुमार के साथ 30 ग्रामीण रहे। इसके साथ ही ग्राम प्रधान ने उपस्थित प्रशिक्षुओं को खाद्य प्रसंस्करण के बारे में जानकारी के लिए धन्यवाद एवं शुभकामनाएं दी और कहा कि यह जानकारी लेने के बाद आवश्यक नहीं है कि आप रोजगार करें यह निजी जीवन में भी बहुत उपयोगी होता है।

इसका आयोजन राजकीय फल संरक्षण एवं प्रशिक्षण केंद्र आदर्श नगर आलमबाग लखनऊ के द्वारा किया गया जिसको की उत्तर प्रदेश खाद्य प्रसंस्करण उद्योग नीति 2017 के अंतर्गत प्रदेश में मौजूदा 8135 नए पंचायतों में आगामी 5 सालों में चलाया जाएगा। जिसकी प्रथम चरण की शुरुआत करते हुए लखनऊ की गोसाईगंज के बाद सरोजिनी नगर विकासखंड के गांव में इस शिविर का आयोजन किया गया।

इसका मुख्य उद्देश्य लगातार ग्रामीणों का खेती से मोह भंग को रोकना व बेरोजगारी को दूर करना है।
इस शिविर के माध्यम से प्रथम चरण में प्रत्येक न्याय पंचायत से 30 व्यक्तियों का चयन करना था जिनकी उम्र 20 वर्ष से ऊपर हो और वह हाई स्कूल पास हो।

शिविर में केंद्र से केंद्र प्रभारी ऋषि निगम, पर्यवेक्षक सुभाष चंद्र तिवारी, मान सिंह, रजनीश सिंह के साथ कई ग्रामीण भी शामिल रहे।

शिविर में उपस्थित सभी अधिकारियों ने बारी बारी से शिविर में आए लोगों को उनके द्वारा उप जाई जा रही फसल का सही मूल्य कैसे मिले यह बताया जैसे कि गेहूं सरसों आम आंवला नींबू धान की फसलों से खाद्य पदार्थ तैयार किए जाते हैं उनको तैयार करने के बाद बाजार में बेचकर कैसे अधिक से अधिक मूल्य कमाया जा सके जैसे कि आम का अचार नींबू आंवले का अचार इसी के साथ सरसों का तेल आदि फसलों को खाद्य पदार्थ के रूप में बदल कर बाजार में भेजने को कहा जिससे कि उनको अधिक से अधिक आय मिल सके।

केंद्र से आए हुए प्रशिक्षकों ने उपस्थित प्रशिक्षणार्थियों को आलू का चिप्स, पापड़, बड़ी को बनाने की विधि के साथ-साथ शिविर में बनाकर दिखाया गया।