हवाहवाई साबित हुआ भाजपा का अटल सुशासन दिवस मनाने का दावा

340
newyearwish

 

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय संगठन द्वारा भारत के पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न स्व अटल बिहारी वाजपेई के मृत्योपरान्त पड़ने वाले प्रथम जन्म दिन को हर बूथ स्तर पर सुशासन दिवस के रूप मनाये जाने की घोषणा की गई थी। लेकिन शायद लखनऊ में जिला संगठन की उदासीनता के चलते अटल जी का जन्म दिवस सुशासन दिवस के रूप में लखनऊ जिले में महज हवा हवाई ही शाबित हुआ।

लखनऊ जिले के लगभग हजारों बूथ ऐसे रहे जहां अटल जी का जन्म दिन सुशासन दिवस के रूप में मनाया ही नहीं गया तमाम बूथो पर पता चला कि जिला संगठन द्वारा इन बूथों के बूथ अध्यक्षो को अटल सुशासन दिवस मनाने की कोई सूचना ही नहीं थी। बताते चलें कल तक जिन अटल जी के मरणोपरांत भाजपा राष्ट्रीय नेतृत्व उनकी अस्थियों को लेकर जनता के बीच जाकर श्रद्धाजली व्यक्त कर रहा था, जगह जगह अटल अस्थि कलश यात्रा भी निकाली गई।

लेकिन बीते २५ दिसम्बर को जब देश के राष्ट्रीय नेतृत्व एवं देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इसको हर बूथ स्तर पर स्व प्रधानमंत्री के जन्म दिवस को अटल सुशासन दिवस के रूप में मनाये जाने का निर्देश दिया तो पता चला कि स्व प्रधानमंत्री का जिस लखनऊ से काफी पुराना नाता रहा जहां से अटल जी तमाम बार सांसद बने आज उसी लखनऊ की धरती पर भाजपा जिला संगठन की उदासीनता एवं कार्यकर्ताओं को सूचना न मिल पाने से यदा कदा ही जगह स्व प्रधानमंत्री का जन्म दिवस मनाया गया।

वहीं देश के गृहमंत्री व लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह एवं मोहनलाल गंज लखनऊ संसदीय क्षेत्र के सांसद कौशल किशोर सहित तमाम प्रदेश व देश के नेताओं ने स्व अटल जी का जन्म दिवस लखनऊ की धरती पर धुमधाम से सुशासन दिवस के रूप में मनाया लेकिन भाजपा लखनऊ जिला संगठन ने इस सुशासन दिवस पर पानी फेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी जिसके चलते हजारों बूथ पर यह कार्यक्रम नहीं मनाया गया।