सरोजिनी नगर : भ्रस्टाचार में लिप्त ग्राम प्रधान व पंचायत सचिव पर एफ आई आर दर्ज करने  के आदेश

429
newyearwish

श्रीनिवास सिंह मोनू
लखनऊ। प्रदेश में सरकारी योजनाओं में हीला हवाली करने के साथ सरकारी धन का दुरुपयोग अब आम बात हो गई है। सरकार द्वारा किसी भी योजना के बजट का बंदरबांट यहां के आला अधिकारी से लेकर उनके मातहतों को कैसे किया जाता है यह खूब जानते हैं। ताजा मामला सरोजनी नगर विकास खंड के ग्राम सभा सहिजनपुर का है यहां पर पिछ्ले वर्षों से लगातार आवासो व शौचालयों में जमकर सरकारी धन की लूट हुई है। पंचायत सचिव व ग्राम प्रधान ने मिलकर पात्रता सूची को अनदेखा करते हुए पुराने लाभार्थियों व अपात्रों को ही लाभान्वित करने के साथ खूब कमीशन खोरी का काम किया है।

देश में इतनी तरक्की होने के बावजूद आज भी हजारों की संख्या में लोग बेघर व भूखा रहने को मजबूर हैं इन हालातों में भी इस तरह की भ्रष्टाचार की घटनाएं दिल को झकझोर देने वाली होती है।

गौरतलब है कि ग्राम सभा के लगभग आधा दर्जन आवास अपात्रों को दे दिए गए जिनकी रकम पंचायत सचिव व प्रधान मिलकर डकार गए। निरीक्षण में पाया गया कि गांव में 34 शौचालय अपूर्ण पाए गए जबकि ग्राम पंचायत 6 जून 2018 से पूर्व ही शौचालय मुक्त घोषित की जा चुकी है । खंड विकास अधिकारी मुनेश चंद्र ने जानकारी देते हुए बताया कि उक्त प्रकरण की जांच करने के बाद पंचायत सचिव व प्रधान के खिलाफ पंचायती राज अधिनियम के तहत कार्रवाई करने का आदेश दिया जा चुका है वहीं भविश्य में जांच को प्रभावित न कर सके इसलिए पंचायत सचिव को तत्काल निलंबित किया जाता है।