नारायणपुर में भू-माफियाओं ने चारागाह की जमीन पर किया कब्‍जा, आलाधिकारियों का मौन संरक्षण

340
newyearwish

श्रीनिवास सिंह मोनू

लखनऊ। प्रदेश में योगी सरकार बनते ही भू माफियाओं को काबू में करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी निगरानी में एंटी भू माफिया पोर्टल की शुरुआत की थी कुछ दिनों तक तो इस पोर्टल के माध्यम से कुछ लोगों की समस्याओं का निवारण भी हुआ। मगर जैसा हर सरकारी अभियान का हाल होता है, वैसा ही कुछ इस अभियान का भी हुआ। भ्रष्टाचार की वैतरणी में डुबकी लगाने वाले कुछ भ्रष्ट अफसरों को यह सरकारी अभियान रास ही नही आया। इसलिए ढाक के तीन पात वाली कहावत चरितार्थ हो रही है।

हम बात कर रहे हैं सरोजिनी नगर विकास खंड के थाना बंथरा स्थित ग्राम सभा नारायणपुर में स्थित ग्राम सभा व पशु चारागाह की खसरा संख्या 353 भूखंड की।

मालूम हो कि यह जमीन नारायणपुर से फतेहगंज मुख्य मार्ग पर स्थित है जिसकी वजह से यह हमेशा से ही भू माफियाओं के नजरों में चढ़ी रहती है। परंतु बीते शनिवार और रविवार को इस बेशकीमती जमीन पर कुछ दबंग भू माफियाओं द्वारा जेसीबी मशीन व ट्रैक्टर सहित जुताई करते हुए अवैध कब्जे का प्रयास किया गया। जिसको देखते हुए गांव वालों ने कड़ा विरोध दर्ज कराया था।

गांव के निवासी सुबोध सिंह ने इस अवैध कब्जे को लेकर अपना विरोध दर्ज कराते हुए जब क्षेत्रीय लेखपाल शकील अहमद से बात करनी चाही तो दूसरी ओर से पहले तो लेखपाल की तरफ से सीधा सीधा कोई जवाब नहीं आया परंतु जोर देने पर लेखपाल ने इस कब्जे को वैध ठहराते हुए सुबोध सिंह का फोन काट दिया। बता दें कि यह वही लेखपाल हैं जिसका कुछ दिन पूर्व रूपये लेते हुए विडियो वायरल हुआ था मगर आला अधिकारियों का संरक्षण प्राप्‍त होने के नाते इस लेखपाल का बाल भी बांका नहीं हुआ। इसीलिए सोमवार को सुबोध सिंह के साथ अन्य ग्रामीणों ने मिलकर जिलाधिकारी को एक शिकायत पत्र सौंपते हुए मामले का संज्ञान कराया।

अवैध कब्जे को लेकर ग्रामीणों में भयंकर रोष व्याप्त है। ग्रामीणों का कहना है कि अगर इसी प्रकार ग्राम समाज और पशुचारागाह की जमीन पर अवैध रूप से दबंगों का कब्जा हो जाएगा तो गांव वाले अपने जानवरों और अन्य क्रियाकलापों के लिए कहां जाएंगे।