भक्ति में लीन अंधविश्‍वासी युवक ने दुर्गा मंदिर में जीभ काटकर चढाई

426
newyearwish

सिरौलीगौसपुर बाराबंकी। भले ही हम 21वीं सदी में जी रहे हैं।
लेकिन अंधविश्वास आज भी हम पर कहीं न कहीं हावी है।
समाज में आज भी कई तबके ऐसे हैं जो अंधविश्वास के अंधेरे में डूबे हुए हैं।
इसकी एक झलक बाराबंकी में देखने को मिली है।
जहां भक्ति में लीन एक युवक ने अपनी जीभ काटकर माता के पैरों में चढ़ा दी।

सिरौलीगौसपुर क्षेत्र के थाना डीह गांव में एक युवक ने गांव के दुर्गा माता मंदिर
पर अपनी जीभ काटकर चढ़ा दी। युवक थोड़ी देर बेहोश होने के बाद पुरी तरह से स्वास्थ्य है।

डीह गांव की घटना

WhatsApp Image 2018-10-15 at 8.06.38 PM

दरअसल थाना डीह गांव के रहने वाले सोनेलाल वर्मा 5 वर्ष पूर्व बिजली के करंट से घायल हो गया था जिसमे हाथ को काटना पड़ा था तब उसने माता से अपनी बीमारी से ठीक होने के लिए माता से मन्नत मांगी थी और मन्नत पूरी होने पर जबान चढ़ाने की भी मन्नत की मानी थी।

सोमवार की सुबह में भी वह मंदिर में पूजा करने गया था तभी उसने यह कदम उठा लिया।
माता को खुश करने के लिए उन्होंने अपनी जीभ काटकर प्रतिमा पर चढ़ा दी।

घटना के बाद युवक  बेहोश हो गया वहीं गांव के लोग जब मंदिर के पास गए तो देखा कि युवक के मुंह से खून निकल रहा था और बेसुध हालत में पड़ा था।

यह बात गांव में आग की तरह फैल गयी क्षेत्र के लोग भी देखने पहुचने
लगे अब युवक पूरी तरह स्वस्थ है और अभी भी मंदिर परिसर में ही है।