आज का राशिफल दिनांक 04 अक्‍टूबर 2018 दिन गुरुवार, आपका दिन मंगलमय हो

101

मेष :- आपका किसी से मतभेद हो सकता है, आप के पेट मे तकलीफ़े बन सकती है मित्रो का अच्छा सहयोग प्राप्त होगा, आज परिवार के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा।

वृष :- आपका दिन बहुत प्रभाव शाली रहेगा, काम-काज को लेकर हर तरह से उत्तम है,  परिवार के सुख मे कमी मिलेगी साथ ही आप सेहत के प्रति सचेत रहे।

मिथुन :- मित्रो और रिश्तेदारो का सहयोग मिलेगा, साथ ही आज कोई सुखद समाचार मिलेगा काम-काज और शिक्षा के लिए आज का दिन उत्तम है।

कर्क :- किसी से बेवजह तालमेल खराब हो सकता है घर मे किसी की सेहत को लेकर के चिंता बन सकती है आप को मानसिक और शारीरिक दिक्कते आएगी।

सिंह :- आज मन मे आलस्य बना रहेगा साथ ही आपका तालमेल पारिवार से खत्म  होगा जिसके कारण आपके मन मे नकारात्मक विचार बनने लग जायेगे, काम-काज की तरफ से हर तरह उत्तम होगा।

कन्या :- शकी स्वभाव के चलते आपको हार का मुँह देखना पड़ सकता है। दिन चढ़ने पर वित्तीय तौर पर सुधार आएगा । दोस्तों के साथ शाम को घूमने बाहर जाएँ, इससे आपको बहुत फ़ायदा होगा।

तुला :- आज आप अपने जीवनसाथी की मांगों को पूरा करने से बचिए। आज दफ़्तर के माहौल में बेहतरी और काम-काज के स्तर में सुधार को महसूस कर सकते हैं।

वृश्चिक :- अगर आज आप यात्रा कर रहे हैं तो आपको अपने सामान की अतिरिक्त सुरक्षा करने की ज़रूरत है। आपसे कोई बड़ी ग़लती सम्भव है, जो वैवाहिक जीवन को ख़राब कर सकती है।

धनु :- आज का दिन मौज-मस्ती और आनन्द से भरा रहेगा- क्योंकि आप ज़िन्दगी को पूरी तरह जिएंगे। निश्चित तौर पर वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा लेकिन साथ ही ख़र्चों में भी इज़ाफ़ा होगा l

मकर :- पुरखों की जायदाद की ख़बर पूरे परिवार के लिए ख़ुशी ला सकती है। आप अपने जज़्बात का इज़हार करने में मुश्किल महसूस करेंगे। कार्यक्षेत्र में किसी विशेष व्यक्ति से आपकी मुलाक़ात हो सकती है।

कुंभ :- नए विचारों और सुझावो को जाँचने का बेहतरीन वक़्त हैं। आप अपने प्रति अपने साथी के प्यार को समझेंगे,  क्योंकि जीवन के एक खास पहलू के लिए समय थोडा कठिन हो सकता है।

मीन :- मित्रो का अच्छा सहयोग प्राप्त होगा तथा परिवार के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा। सेहत को लेकर के चिंता बन सकती है, आपको मानसिक और शारीरिक दिक्कते आएगी।

आपका सुखद भविष्य मेरा लक्ष्य
नन्द किशोर कौशल (पानीपत)8168038822
 जय श्री राधे  जय श्री कृष्णा