सरोजनी नगर तहसील के लेखपाल ने किसान से ठगे 50 हजार, विडियो वायरल

809

लखनऊ। भ्रष्‍टाचार में लिप्‍त राजधानी लखनऊ के ज्‍यादातर लेखपाल आजकल जमीन की
नापजोख के नाम पर अवैध धन उगाही कर रहे हैं।
इनका मुंह इतना बड़ा है कि एक-एक आदमी से लाखों रूपये ले रहे हैं
रूपये लेने के बाद भी काम नहीं हो रहा है।
इनके इस गोरखधंधे में आलाधिकारी भी शामिल हैं
उन्‍हें भी मोटा हिस्‍सा इस रकम का मिलता है।

ताजा मामला सरोजनी नगर तहसील में कार्यरत लेखपाल शकील अहमद की कारगुजारियों का है।
सरोजनी नगर तहसील के अंर्तगत आने वाले गांव सादुल्‍ला नगर के रहने वाले
मोहम्‍मद कलीम की से वरासत दर्ज कराने के लिए लेखपाल शकील अहमद के छह महीने से
चक्‍कर लगा रहे थे, पर वरासत दर्ज होना तो दूर दूर लेखपाल उनसे सीधे मुंह बात भी नहीं कर रह था।

अंत में रोज-रोज की दौडभाग से तंग आकर पीडि़त भाइयों ने वारासत दर्ज
कराने की मिन्‍नतें की तो लेखपाल ने कहा कि करोड़ो की
जमीन की वरासत दर्ज के पचास हजार रूपये लगेंगे।
जब पीडि़त भाइयों ने रुपये इकट्ठा किये तो लेखपाल ने अपने घर पर बुलाकर
रूपये भी ले लिए और वरासत दर्ज भी नहीं की।

पैमाइस को लिए 1500 रूपये

इसी तरह इसी गांव के रहने वाले मो उज़ेर से जमीन की
पैमाइस के लिए लेखपाल ने पंद्रह हजार रूपये लिए और पैमाइश नहीं की।
विडियो में जो शख्‍स रूपये गिन रहा है वह सादुल्‍ला नगर का पूर्व प्रधान है
और रूपये लेने वाला शख्‍स लेखपाल शकील अहमद है।
विडियो पीडि़त किसान के द्वारा बनाया गया है।

देखें विडियो :-

जहां एक ओर सरकार विभागों में व्‍याप्‍त भ्रष्‍टाचार दूर करने के लिए रोज सख्‍त रवैया अपना रही हैं
वहीं दूसरी ओर ऐसे लेखपाल सरकार की छवि को धूमिल करने का काम कर रहे हैं।