किसान हितों को लेकर किसान मंच ने बुलंद की आवाज

268

लखनऊ। रविवार को किसानमंच के प्रदेश कार्यालय पर मंच की बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें किसान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनोद सिंह, राष्ट्रीय सचिव सत्येंद्र सिंह, उत्तर प्रदेश किसान मंच के अध्यक्ष देवेंद्र तिवारी ने पूरे देश में मौजूदा दौर में किसानों को होने वाली समस्याओं से निपटने के लिए एकजुट होकर अपनी मांगों को किसान मंच के जरिए सरकार तक पहुंचाने आह्वान किया।

किसान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने मौजूदा सरकार पर किसानों के साथ धोखा करने का आरोप लगाया, उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार किसानों के लिए स्वामीनाथन रिपोर्ट को सौ दिन में लागू करने की बात, किसानों के लिए लागत मूल्य का 2 गुना करने की बात कह कर सत्ता में आई थी।

परंतु आज ना तो स्वामीनाथन की रिपोर्ट को लागू कर रही है। न ही लागत मूल्य का 2 गुना कर रही है, बल्कि वह केवल समर्थन मूल्य बढ़ाने की बात करती है। आज खाद बीज एवं कीटनाशक का मूल्य लगातार बढ़ रहा है इस हिसाब से क्या किसानों को उनके लागत का दोगुना मिल पा रहा है। जो कि किसानों के साथ अन्याय है।

यह मंच किसी सरकार का विरोधी या हितैषी नहीं है। किसान मंच केवल किसानों के हित की बात करता है वर्तमान सरकार में कर्जमाफी के नाम पर भी केवल किसानों को छलने का काम किया गया है। पिछली और मौजूदा सरकारों ने किसानों के साथ इतना अन्याय किया है, कि अब देश के किसानों और देश के सभी किसान संगठनों का भरोसा इन सरकारों से उठ गया है इसलिए आज सभी किसान संगठन एकजुट हो रहे हैं। आज देश के सभी किसान संगठन किसान महा संगठन के बैनर तले इकट्ठा होकर देशभर में किसान हितों के लिए जगह जगह मौजूदा सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं।

बैठक में किसान मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष राम नरेश तिवारी प्रदेश प्रवक्ता रमाशंकर द्विवेदी मीडिया प्रभारी मोनू सिंह के साथ अन्य जिलों के पदाधिकारी जिनमें सिद्धार्थ सिंह अभिषेक तिवारी नीरज तिवारी रामकृष्ण द्विवेदी आदर्श उपाध्याय जय प्रकाश शुक्ला सैफी खान मनीष तिवारी हरिनाथ सिंह के अलावा प्रदेश के जिले से आए हुए सैकड़ों कार्यकर्ता शामिल हुए।