हरौनी प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र में हो रहा प्रसुताओं की जान से खिलवाड़

368

श्रीनिवास सिंह चौहान ‘मोनू सिंह’

लखनऊ। सरकार द्वारा जननी सुरक्षा योजना के तहत तमाम तरह की जन कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं। उन योजनाओं पर सरकार का करोड़ों रुपए भी खर्च हो रहा है, मगर क्या आम जनमानस को उससे राहत मिल पा रही है। यह आज भी बहुत बड़ा सवाल बना हुआ है।

ताजा मामला बंथरा थाना क्षेत्र के हरौनी में स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का है जहां पर हरौनी गांव निवासी सरवन अपनी पत्नी की बहन आरती को प्रसव पीड़ा होने पर ले कर गए। अस्पताल में मौजूद डॉक्टरों ने प्रसूता को भर्ती तो कर लिया परंतु उचित इलाज न होने पर मरीज को दर्द और अधिक बढता गया। दर्द बढ़ने पर जब मरीज के परिजन मरीज को दूसरे अस्पताल में भेजने के लिए कहने लगे तो वहां मौजूद डॉक्टरों ने एंबुलेंस न होने की बात कही इस पर प्रसूता के परिजनों ने अपने साधनों से मरीज को ले जाने की बात कहकर दूसरे अस्पताल भेजने को कहा।

चिकित्‍सालय मौजूद डॉक्टरों व नर्सों ने पीड़िता के परिवारीजनों को प्रसूता को दूसरे अस्पताल नहीं भेजने को कहा। जिस पर परिवारीजनों ने मरीज की हालत गंभीर होता देख हंगामा शुरू कर दिया हंगामा बढ़ता देख डॉक्टरों ने तुरंत ही प्रसूता को रेफर कर दिया। जिस पर प्रसूता के घर वालों ने उसे आनन-फानन में ले जाकर लोक बंधु अस्पताल में भर्ती कराया जहां पर उसका तुरंत ऑपरेशन करके बच्चे का जन्म कराया गया।

परिवारीजनों का यह भी आरोप है कि यदि वह हंगामा कर के प्रसूता को जल्द ही अस्पताल से दूसरे लोक बंधु अस्पताल ले जाते तो कुछ भी हो सकता था।