जम्‍मू में सेना पर पत्‍थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों के साथ झड़प, 3 पत्‍थरबाज ढेर

0
188

जम्‍मू। जम्मू एवं कश्मीर के कुलगाम जिले में शनिवार को एक गांव में खोज
अभियान के दौरान भीड़ के पथराव करने से सुरक्षाबलों द्वारा कथित
गोलीबारी में किशोरी सहित तीन लोगों की मौत हो गई।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि कुलगाम में आतंकवादियों के एक समूह के छिपे
होने की सूचना के बाद सुरक्षाबलों द्वारा क्षेत्र को चारों ओर से घेरने के
दौरान हावुरा और इसके आसपास के गांवों के स्थानीय लोगों ने आतंकवाद रोधी |
अभियान को बाधित करने की कोशिश की।

सुरक्षाबलों के साथ झड़प के दौरान तीन लोगों की गोली लगी।
मृतकों की पहचान अंदलीब (16), शकीर अहमद (22) और इरशाद अहमद (20) के रूप में हुई है।
वरिष्ठ पुलिस, सेना और अर्धसैनिक अधिकारी स्थिति का जायजा लेने के लिए मौके पर पहुंचे।
इस घटना के बाद कुलगाम, शोपियां, अनंतनाग और पुलवामा में
मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई।

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में पथराव कर रहे प्रदर्शनकारियों के
साथ झड़प के दौरान शनिवार को सेना के जवानों ने गोली चलाना शुरू कर दिया।
जिसमें एक लड़की समेत तीन नागरिकों की मौत हो गयी और दो अन्य घायल हो गए।
इसके बाद एहतियाती कदम के तौर पर कश्मीर के अधिकतर
हिस्सों में मोबाइल इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गयी है।
पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि उपद्रवियों के एक समूह ने आज
दोपहर बाद दक्षिण कश्मीर में कुलगाम के हावूड़ा मिशीपुरा इलाके से गुजर रहे
सेना के एक गश्ती दल पर पथराव शुरू कर दिया।

उन्होंने कहा कि जब जवानों ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने का
प्रयास किया तो इस दौरान पांच लोग जख्मी हो गये।
प्रवक्ता के मुताबिक घायलों को पास के एक अस्पताल में पहुंचाया गया जहां
एक लड़की समेत तीन लोगों की मौत हो गयी।
उन्होंने बताया कि बाकी दो की हालत स्थिर बताई जा रही है।
प्रवक्ता के अनुसार पुलिस ने मामले में जांच शुरू कर दी है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस घटना के बाद दक्षिण कश्मीर के
अनंतनाग, कुलगाम, पुलवामा और शोपियां जिलों में कानून व्यवस्था बनाये
रखने के लिहाज से इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गयी हैं।

हिज्बुल मुजाहिद्दीन के कमांडर बुराहन वानी की दूसरी बरसी आने वाली है,
इसको ध्यान में रखते हुए भारतीय सेना ने सुरक्षा के इंतजाम मजबूत कर दिए हैं।
इसके साथ ही अलगाववादियों ने कश्मीर बंद का एलान भी किया है।
वहीं, शुक्रवार को शोपियां जिले से अगवा किए गए जम्मू कश्मीर
पुलिसकर्मी जावेद अहमद डार का शव एक दिन बाद
कुलगाम के परिवान से बरामद किया गया था।
27 वर्षीय डार को गुरूवार की शाम एक दवा दुकान से अगवा किया गया था।
स्थानीय लोगों ने बताया कि उन्हें 27 वर्षीय जावेद अहमद डार का
शव शुक्रवार को परिवान कुलगाम में मिला है।

आसिया अंद्राबी 10 दिन की NIA रिमांड पर

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में यह एक माह के अंदर दूसरी बार है,
जब संदिग्ध आतंकियों ने किसी पुलिसकर्मी को अपना निशाना बनाया है।
कुछ मीडिया रिपोर्टों में कहा गया कि हिज्बुल मुजाहिदीन ने इस अपहरण की जिम्मेदारी ली है।

उन्‍नाव गैंगरेप के आरोपी भाजपा विधायक पर सीबीआई मेहरबान, चार्जशीट में…

यह घटना ऐसे वक्त पर सामने आयी है जब कुछ हफ्ते पहले ही
दक्षिण कश्मीर के शादिमुर्ग में तैनात सेना के जवान औरंगजब को
आतंकियों ने अगवा कर उनकी हत्या कर दी।
उस वक्त वे 14 जून को 44 राष्ट्रीय रायफल्स कैम्स से ईद की छुट्टियों में घर जा रहे थे।
आतंकियों ने औरंगजेब की हत्या से पहले वीडियो भी रिकॉर्ड किया था।