ईद से पहले आतंकवादियों की बड़ी हरकत, सेना के जावन का अपहरण कर उतारा मौत के घाट

0
117

केके रघुवंशी

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले से अपहरण किए गए सेना के जवान का छत विक्षत शव बरामद हुआ है।
राष्ट्रीय रायफल्स में तैनात औरंगजेब का शव गुसू से बरामद किया गया।
स्थानीय पुलिस ने बताया कि अपहृत सैनिक का गोलियों से छलनी शव दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के गुसू में मिला।

गौरतलब है कि जवान का उस समय अपहरण कर लिया गया था
जब वह ईद मनाने के लिए छुट्टी लेकर घर आया था।
सेना ने जवान को छुड़ाने के लिए एक बड़ा ऑपरेशन शुरू किया था,
लेकिन वह अपने जवान को बचाने में कामयाब नहीं हो पाई।

अधिकारियों ने बताया था कि राजौरी जिला का निवासी औरंगजेब ईद के मौके पर छुट्टियों में घर जा रहा था।
इस दौरान पुलवामा जिले के कलामपुरा इलाके से उसका अपहरण कर लिया गया था।
औरंगजेब 4 जम्मू कश्मीर लाइट इनफैंट्री में था और वर्तमान में वह शोपियां के शादीमार्ग में 44 राष्ट्रीय राइफल्स शिवर में तैनात था।
उन्होंने बताया कि इकाई के सेना के जवानों ने शोपियां में सुबह 9 बजे एक कार रोकी और चालक से औरंगजेब को शोपियां पहुंचाने के लिए कहा।
उन्होंने बताया कि यह पता लगाया जा रहा है कि वास्ताव में क्या हुआ।

तीन आतंकियों ने किया था गाड़ी रोक कर अगवा

सेना की 44 राष्ट्रीय राइफल्स आरआर का जवान औरंगजेब पुंछ के सबलारी सलानी मेंढर का रहने वाला था। वीरवार को अपने यूनिट से छुट्टी पर निकला था। शादीमर्ग में स्थित 44 आरआर के कैंप के बाहर उसके साथी ने एक प्राइवेट गाड़ी को हाथ दिया और ड्राइवर से औरंगजेब को शोपियां तक छोड़ने के लिए कहा। पुलवामा जिले के कलमपोरा इलाके के पास सुबह लगभग 10 बजे यह गाड़ी पहुंची तो 2 से 3 हथियारबंद आतंकियों ने गाड़ी को रोका और जवान को अगवा कर साथ लेते गए।

गोली मार कर की गई है हत्या

स्थानीय सूत्रों के मुताबिक जवान की हत्या गोलीमार कर हुई है। हालांकि कुछ तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई हैं जिनमें जवान का शरीर क्षत-विक्षत अवस्था में दिखाई दे रहा है। आशंका जताई जा रही है कि पत्थरों से भी जवान को मारा गया है। पुलिस ने शव की पुष्टि करते हुए जांच शुरू कर दी है।