पुलिस की मिलीभगत से सरेआम खुले में कट रहा अवैध मीट

0
264

लखनऊ। महंत योगी आदित्‍यनाथ ने सीएम की कुर्सी संभालते ही अवैध रूप से चल रहे बूचडखानों पर नकेल कस दी थी। मगर ज्‍यों-ज्‍यों समय बितता जा रहा है सीएम के आदेश को अधिकारी ठंडे बस्‍ते में डालते जा रहें हैं।

WhatsApp Image 2018-06-01 at 3.32.59 PM

सीएम ने जारी फरमान में कहा था कि जब तक ये व्यवसाई अपनी दुकान का लाइसेंस नहीं बनवा लेते व मीट के कारोबार के लिए एक निश्चित जगह और मीट काटने के लिए बंद जगह का इंतजाम नहीं कर लेते, तब तक व्यवसाय का संचालन नहीं कर सकते।

इस फरमान के जारी होते ही कुछ व्यापारियों ने अपना लाइसेंस बनवाया और बंद जगह का इंतजाम करके अपना व्यापार एवं कारोबार शुरु कर दिया। मगर कुछ समय बीतने के बाद सरकारी फरमान में हीलाहवाली होने लगी।

इसके साथ ही कुछ व्यवसायियों ने इधर-उधर जुगाड़ करके व स्थानीय पुलिस से मिलीभगत करके लाइसेंस नहीं बनवाया इस तरह उन्हें सरकारी फरमान का कोई डर भी नहीं रहा। अब पहले की तरह खुले में मीट व मांस काट रहे हैं। शाम को बचने वाली गंदगी खुले में ही छोड़ कर घर चले जाते हैं जिससे उस खाने के बाद जानवरों को ववातावरण में तरह-तरह की बीमारियां फैलती हैं।

यही हाल राजधानी के बंथरा थाना क्षेत्र में कटी बगिया से मोहन मार्ग पर कटी बगिया से लगाकर हरौनी तक लगभग आधा दर्जन अवैध मीट व्यवसाइयों की दुकानें खुलेआम संचालित हो रही हैं। इनको ना तो सरकार के सरकारी फरमान का कोई डर है ना ही स्थानीय पुलिस का यहां पर मीट व्यवसाई सुबह होने से लेकर शाम तक अपनी दुकान पर खुले में ही मीट काटकर शाम तक बिक्री किया करते हैं।

इसके साथ ही शाम होते ही बचे हुए गंदे माल को बाहर खुले में ही फेंक कर घर भी चले जाते हैं। जिससे वातावरण में तमाम तरह की बीमारियां फैल रही हैं एवं लोग तरह तरह की बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं।