भ्रष्‍ट अफसरशाही सरकार को दिखा रही ठेंगा

0
527

राहुल तिवारी

लखनऊ। सरकार लगातार भ्रष्टाचार पर लगाम कसने पर तेजी से प्रयासरत है। लेकिन विभागों में बैठे अफसर चाहे वह पुलिस महकमा हो या फिर अन्य विभागों में चाहे तहसील स्तर पर हो या फिर बिजली महकमा। इन विभागों में बैठे अफसर अपनी मनमानी करते हुए सरकार व शासन को ठेंगा दिखाने का काम कर रहे हैं। हम बात करते हैं सबसे पहले पुलिस महकमे की जहां सबसे अधिक भ्रष्टाचार व्याप्त है।

शायद इस भ्रष्टाचार में पुलिस महकमे के बडे अधिकारी भी संलिप्त है या तो ये अधिकारी शासन व प्रशासन के दबाव में काम कर रहे हैं।

कुछ राजनेताओं की हां हजुरी मे बंधकर स्वतन्त्रता से काम नही कर पा रहे है जिसके चलते आज दशा यह है कि ऊपर से नीचे तक के अधिकारियों मे काफी भ्रष्टाचार है। चाहे वो जिले के कप्तान हो या फिर पुलिस महकमे के उच्चाधिकारी ये उन पुलिस कर्मियों को लाईन हाजिर या सस्पेंड करने में नहीं चूकते जो अपनी निष्टा व ईमानदारी के साथ काम करते हैं आज तमाम ऐसे इमानदार उपनिरीक्षक है जो थानाध्यक्षो की बात न मानने की सजा पुलिस लाइन्स मे पडे रहकर झेल रहे है।

वहीं पुलिस विभाग के अफसरों की हां हुजुरी न करनेवाले वाले व राजनेताओं की चाटूकारिता न करने वाले तमाम ऐसे प्रोन्नति उपनिरीक्षक जिनको शाशन द्वारा प्रोन्नति देकर निरीक्षक बनाया जा चुका है ऐसे लगभग दो सौ पदोन्नति उपनिरीक्षक थानो व लाईन मे पडे है लेकिन सत्ता में व पुलिस अधिकारियों की चमचागिरी करने वाले  टू स्टार उपनिरीक्षक आज थानो की कमान सम्भाले हुये है।