रिश्‍तेदारों को आवास न देने तिलमिलाए भाजपा जिला उपाध्‍यक्ष ने किया बड़ा काम  

819

लखनऊ। मोदी सरकार व प्रदेश की योगी सरकार भ्रष्टाचार खत्म कर गरीबों पिछड़ों के हितों के लिए तमाम जनकल्याणकारी योजनाएं चला रही है। सरकार गरीबों के हितों के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं में प्रधानमंत्री आवास योजनामुख्‍य है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के हर उस गरीब को जो झोपड़ियों व कच्चे मकानों में रहकर अपना जीवन यापन कर रहे हैं जिसके लिए केंद्र की मोदी सरकार ने 1 लाख 35,000 रुपए की धनराशि उन गरीबों को दे रही है। जो वास्तव में झोपड़ी कच्चे मकान में रहते हैं।

लेकिन हाल यह है की इस योजना का लाभ केवल कुछ चंद गरीबों को ही मिलता है। इस योजना का लाभ केवल ग्राम प्रधान के कुछ खास लोगों को ही मिल पाता है। इतना ही नहीं सबसे अहम बात तो अब उजागर हुई जब पता चला कि कुछ भाजपा नेता ही अपने परिवार के लोगो के लिए प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण योजना का लाभ अधिकारियों से मांगने में कोई गुरेज नहीं कर रहे हैं।

मामला सांसद आदर्श ग्राम बेती का है जहां के निवासी व भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष अमित तिवारी ने  21-7-2017 को खंड विकास अधिकारी सरोजिनी नगर अजय प्रताप सिंह को पत्र लिखकर प्रधानमंत्री आवास योजना में 12 नामों को शामिल करने के लिए अनुरोध किया था। खंडविकास अधिकारी सरोजनी नगर ने पंचायत सचिव अकरम अंसारी एडीओ समाज एमएल कनौजिया से 12 नामों की सूची देकर उनकी जांच कराई तो पता चला ये लोग भाजपा उपाध्यक्ष के ही खास लोग हैं साथ ही इन लोगों के पक्के मकान भी बने हैं।

इस जानकारी के बाद खंडविकास अधिकारी ने 2-8-2017 को पुनः भाजपा उपाध्यक्ष को जांच आख्या की रिपोर्ट सहित पत्र भेजी जिस पर तिलमिलाए भाजपा उपाध्यक्ष ने खंडविकास अधिकारी का स्थानांतरण कराने के लिए शासन को वह जनप्रतिनिधियों को भी कई पत्र लिखे इससे यह प्रतीत होता है कि अगर अधिकारी चाहे वह ब्लाक के हो  या फिर जिले के अगर ये भाजपा नेताओं की बात नहीं मानते हैं तो शायद इनको अपनी कुर्सी छोडकर जाना भी पड सकता है।