योगी सरकार बजट का बजट तैयार करेगा पांच मजबूत स्तंभ : डॉ. विमलेश पासवान

1066
विमलेश पासवान

लखनऊ। गोरखपुर जिले की बांसगांव विधानसभा से विधायक डॉ. विमलेश पासवान ने विधानसभा में सरकार द्वारा प्रस्तुत वर्ष 2018-19 के बजट को ऐतिहासिक बताते हुए उसका समर्थन किया।
साथ ही कहा कि यह बजट अब तक का सर्वश्रेष्ठ बजट है, जो कि प्रदेश के सर्वांगीण विकास की आधारशिला है।

सरकार जनता के प्रति संवेदनशील

डॉ. विमलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संरक्षण में प्रदेश सरकार के वित्तमंत्री द्वारा प्रस्तुत बजट 5 मजबूत स्तंभ तैयार करता है।
उन्होंने बताया कि यह पांच मजबूत स्तंभ क्रमश: गांव, गरीब, किसान, युवा और महिलाओं के सशक्तिकरण का कार्य करेगा।
उन्होंने कहा कि बजट के अंतर्गत गरीब समाज के सशक्तिकरण के लिए प्रधानमंत्री आवास, उज्ज्वला योजना से गैस कनेक्शन, शौचालय निर्माण के साथ-साथ सौभाग्य योजना के अंतर्गत हर घर को विद्युतीकरण किया जा रहा है।
इससे कहा जा सकता है कि सरकार बहुत ही संवेदनशील है।

विधानसभा क्षेत्र की समस्याओं को दूर करने की मांग

डॉ. विमलेश पासवान ने सदन में विधानसभा बासगांव की गंभीर समस्याओं को दूर करने के लिए अपना पक्ष रखा।
उन्होंने सदन में कहा कि बांसगांव विधानसभा गोरखपुर जनपद का सबसे पिछड़ा क्षेत्र है।
आजादी के बाद से कोई ठोस विकास कार्य नहीं हुआ है, गांव में कोई उद्योग धंधा नहीं है।
इससे यहां के युवा बेरोजगार होने से मजबूरन बाहर जाने को विवश है।
ऐसे में यहां उद्योग धंधा लगाने की मांग की।

I does not know the source of these rumours : Raj…

उन्होंने महिला सशक्तिकरण के लिए विधानसभा बांसगांव में राजकीय महिला पॉलिटेक्निक की स्थापना के संबंध में विचार करने को कहा।
साथ ही युवाओं के विकास के लिए स्टेडियम की मांग की।
जिसमें खेलकूद, राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय प्रतियोगिता हो सके।
साथ ही गर्मी में विद्युत स्पर्श और अन्य कारणों से फसलों में आग लगने की बात कहते हुए अग्निशमन यंत्र व फायर स्टेशन का निर्माण जल्द कराने की मांग की।
वहीं ब्लॉक कौड़ीराम अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गंभीरपुर और ब्लॉक
गगहा अंतर्गत सामूहिक स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ रखने की मांग।
साथ ही क्षेत्र में जनता की परेशानी को देखते हुए विद्युत फीडर और विद्युत उपकेंद्र लगाने की मांग की।
कौड़ीराम में जनता की परेशानियों को देखते हुए सुलभ शौचालय की मांग भी सदन में रखी।